Home » साइबर सुरक्षा » 4 प्रकार की साइबर सुरक्षा

4 प्रकार की साइबर सुरक्षा

नई प्रौद्योगिकियां और डिजिटल परिवर्तन कंपनियों के लिए नई चुनौतियां पेश करते हैं। उत्पादकता, दक्षता और पहुंच में वृद्धि की संभावना के साथ-साथ साइबर खतरों का जोखिम भी आता है। साइबर सुरक्षा आज कंपनियों की मुख्य चिंताओं में से एक है, क्योंकि IoT और AI जैसे प्रमुख संकेतक हैं। आज के डिजिटल वातावरण में सुरक्षित रूप से संचालित करने और अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए, यह समझना महत्वपूर्ण है कि साइबर सुरक्षा के कौन से उपाय आपको और आपके व्यवसाय को साइबर खतरों से सुरक्षित रखेंगे। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम 5 प्रकार की साइबर सुरक्षा का पता लगाते हैं जिसे हर व्यवसाय को अपने डेटा, सिस्टम, लोगों, प्रतिष्ठा और बहुत कुछ की सुरक्षा के लिए समझना चाहिए।

साइबर सुरक्षा क्या है?

साइबर सुरक्षा कंप्यूटर, नेटवर्क, प्रोग्राम और डेटा को नुकसान या व्यवधान से बचाने का अभ्यास है। यह एक व्यापक शब्द है जिसमें साइबर खतरों से डेटा, सिस्टम और नेटवर्क की रक्षा करने के उद्देश्य से कई गतिविधियों, प्रौद्योगिकियों और प्रक्रियाओं को शामिल किया गया है। सरल शब्दों में, साइबर सुरक्षा मुख्य रूप से हैकर्स को आपके डेटा को चुराने या बदलने और आपके सिस्टम तक पहुँचने से रोकती है।

यह कई उपायों के माध्यम से प्राप्त किया जाता है, जैसे कि नेटवर्क सुरक्षा, इंटरनेट सुरक्षा, समापन बिंदु सुरक्षा और डेटा सुरक्षा। नेटवर्क सुरक्षा आपके नेटवर्क की अखंडता सुनिश्चित करती है, जिसका अर्थ है कि यह अनधिकृत पहुंच के लिए खुला नहीं है। इंटरनेट सुरक्षा अनधिकृत पहुंच या इंटरनेट पर भेजे गए डेटा के दुरुपयोग से बचाती है।

एंडपॉइंट सुरक्षा को एंडपॉइंट डिवाइस और डेटा, जैसे लैपटॉप, डेस्कटॉप और मोबाइल डिवाइस की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है। डेटा सुरक्षा संवेदनशील डेटा, जैसे वित्तीय और व्यक्तिगत जानकारी को अनधिकृत उपयोग या खोज से बचाने पर केंद्रित है।

1. आईडीएस/आईपीएस

एक घुसपैठ जांच प्रणाली (आईडीएस) या घुसपैठ रोकथाम प्रणाली (आईपीएस) मुख्य रूप से साइबर हमलों के खिलाफ नेटवर्क की सुरक्षा के लिए उपयोग की जाती है। यह संदिग्ध या दुर्भावनापूर्ण ट्रैफ़िक के लिए नेटवर्क के भीतर गतिविधियों पर नज़र रखता है, और फिर आवश्यकतानुसार ट्रैफ़िक को ब्लॉक या डायवर्ट कर सकता है।

एक आईडीएस/आईपीएस प्रणाली नेटवर्क सुरक्षा के लिए अधिक व्यापक दृष्टिकोण प्रदान करने के लिए रोकथाम और पहचान क्षमताओं को जोड़ती है। एक IDS हो रही दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों की पहचान करता है, लेकिन उन्हें ब्लॉक नहीं करता है। एक IPS सिस्टम फ़ायरवॉल नियमों के माध्यम से संदिग्ध गतिविधि को ब्लॉक कर सकता है, साथ ही नेटवर्क व्यवस्थापक को सचेत कर सकता है।

हालांकि इन प्रणालियों का उपयोग मुख्य रूप से साइबर हमलों के खिलाफ नेटवर्क की सुरक्षा के लिए किया जाता है, वे कई अतिरिक्त लाभ भी प्रदान करते हैं, जैसे कि बेहतर परिचालन दक्षता, नियामक अनुपालन और लागत में कमी।

2. फायरवॉल

फ़ायरवॉल एक ऐसी प्रणाली है जिसे नेटवर्क ट्रैफ़िक की निगरानी और नियंत्रण करके कंप्यूटर और नेटवर्क को अनधिकृत पहुँच से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। फ़ायरवॉल में आमतौर पर दो नेटवर्क इंटरफेस होते हैं: एक आंतरिक और एक बाहरी। नेटवर्क में प्रवेश करने और छोड़ने वाले ट्रैफ़िक को सुरक्षा नियमों के एक सेट के विरुद्ध जाँचा जाता है, जैसे कि उपयोगकर्ता प्रमाणीकरण और नेटवर्क पता अनुवाद को नियंत्रित करने वाले।

फायरवॉल का उपयोग अक्सर नेटवर्क, वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) और अन्य कंप्यूटर नेटवर्क को अनधिकृत पहुंच, दुरुपयोग या क्षति से बचाने के लिए किया जाता है। फ़ायरवॉल हार्डवेयर आधारित या सॉफ्टवेयर आधारित हो सकता है। फ़ायरवॉल सॉफ़्टवेयर को अक्सर अन्य सुरक्षा उपकरणों के साथ एकीकृत किया जाता है, जैसे कि एंटीवायरस और घुसपैठ का पता लगाने वाले सिस्टम।

डेस्कटॉप फ़ायरवॉल सॉफ़्टवेयर एक व्यक्तिगत कंप्यूटर या लैपटॉप पर स्थापित किया जा सकता है, जबकि नेटवर्क-आधारित सुरक्षा फ़ायरवॉल सॉफ़्टवेयर आमतौर पर कंपनी नेटवर्क या इंटरनेट सेवा प्रदाता पर स्थापित किया जाता है।

3. रेड प्राइवेटा वर्चुअल (वीपीएन)

वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) एक नेटवर्क तकनीक है जो आपको इंटरनेट जैसे सार्वजनिक नेटवर्क पर सुरक्षित नेटवर्क कनेक्शन बनाने की अनुमति देती है। वीपीएन का उपयोग अक्सर व्यावसायिक सेटिंग्स में दूरस्थ नेटवर्क को जोड़ने के लिए किया जाता है या जहां नेटवर्क पर भरोसा नहीं किया जाता है।

वीपीएन का उपयोग कई प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे असुरक्षित नेटवर्क पर संचार की सुरक्षा करना, डेटा की अखंडता को बनाए रखना जब इसे नेटवर्क पर स्थानांतरित किया जाता है, और/या दो नेटवर्क को जोड़ना जो एक दूसरे से जुड़े नहीं हैं। एक वीपीएन के माध्यम से भेजा जाने वाला डेटा भारी एन्क्रिप्टेड होता है, जिसका अर्थ है कि किसी के लिए इसमें सेंध लगाना बेहद मुश्किल है।

fwVPN का उपयोग व्यवसायों द्वारा संचार को सुरक्षित करने के लिए किया जाता है जबकि टीमें दूर से काम करती हैं, और उन नेटवर्क को सुरक्षित रूप से जोड़ने के लिए भी जो एक दूसरे से जुड़े नहीं हैं। वीपीएन का उपयोग उपयोगकर्ताओं को प्रमाणित करने और उनकी गोपनीयता की रक्षा करने के लिए किया जा सकता है। दूर से काम करते समय उनका उपयोग कॉर्पोरेट नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए भी किया जा सकता है। वीपीएन का उपयोग कई अलग-अलग प्रकार के उपकरणों और ऑपरेटिंग सिस्टम पर किया जा सकता है, जिसमें कंप्यूटर, मोबाइल फोन और टैबलेट शामिल हैं।

4. अनुपालन और शासन

जैसे-जैसे कंपनियां तेजी से सीमाओं के पार काम कर रही हैं, वे डेटा सुरक्षा कानूनों के अनुपालन पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही हैं। यह यूरोप में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जहां जनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन (जीडीपीआर) मई 2020 में लागू होता है।

जीडीपीआर का पालन नहीं करने वाले संगठनों पर उनके सालाना राजस्व का 4% तक जुर्माना लगाया जा सकता है। उदाहरण के तौर पर, Google पर GDPR के तहत गोपनीयता के उल्लंघन के लिए $9.7 बिलियन का जुर्माना लगाया गया है। जीडीपीआर का अनुपालन करने के लिए, कंपनियों को अपनी प्रक्रियाओं, डेटा और प्रणालियों की समीक्षा करनी चाहिए और जहां आवश्यक हो वहां परिवर्तन करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, कंपनियां अपने साइबर सुरक्षा प्रशासन और नीतियों की समीक्षा करना चाहती हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे यथासंभव प्रभावी हैं।

इसमें साइबर सुरक्षा जोखिमों का आकलन करना, आपके संगठन के लिए सबसे उपयुक्त तकनीकों का निर्धारण करना और अनुपालन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए साइबर सुरक्षा नीतियों की समीक्षा करना शामिल है।

सारांश

नई प्रौद्योगिकियां और डिजिटल परिवर्तन कंपनियों के लिए नई चुनौतियां पेश करते हैं। उत्पादकता, दक्षता और पहुंच में वृद्धि की संभावना के साथ-साथ साइबर खतरों का जोखिम भी आता है। साइबर सुरक्षा आज कंपनियों की मुख्य चिंताओं में से एक है, क्योंकि IoT और AI जैसे प्रमुख संकेतक हैं। आज के डिजिटल वातावरण में सुरक्षित रूप से संचालित करने और अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए, यह समझना महत्वपूर्ण है कि साइबर सुरक्षा के कौन से उपाय आपको और आपके व्यवसाय को साइबर खतरों से सुरक्षित रखेंगे।